Home News पेट्रोल और डीजल की वजह से सरकार की कितनी कमाई होती है

पेट्रोल और डीजल की वजह से सरकार की कितनी कमाई होती है

0
21

पेट्रोल और डीजल: नमस्कार, जैसा की हम सभी जानते हैं की आज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है और हाल ही में पेट्रोल की कीमत 100/लीटर तक पहुंच गया था। ऐसे में बहुत सारे लोगों के मन में यह सवाल आता है की आखिर पेट्रोल और डीजल की वजह से सरकार की कितनी कमाई होती है।

यहाँ हम आपको बता दें की हाल ही में लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक सवाल का जवाब देते हुए यह बताया की पहले पेट्रोल और डीजल की वजह से सरकार की कितनी कमाई होती थी और अब कितनी कमाई होती है।

पेट्रोल और डीजल

पेट्रोल और डीजल की वजह से सरकार की कितनी कमाई होती है

हम सभी यह जानते हैं की पेट्रोल और डीजल पर सरकार को भारी-भरकम टैक्स मिलता है जिससे सरकार की अच्छी-खासी कमाई होती है और बाद में यही पैसा देश के काम में लगाया जाता है, लेकिन यहाँ गौर करने वाली बात है की पेट्रोल और डीजल पर सिर्फ सरकार की कमाई नहीं होती बल्कि राज्य सरकार की भी खूब कमाई होती है।

यहाँ हम सिर्फ सरकार की कमाई की बात कर रहे हैं, क्योंकि वित्त मंत्री सिर्फ केन्द्र सरकार के पास आने वाले पैसों का हिसाब रखते हैं या उनके बारे में बताते हैं, इसलिए यहाँ हम जिन आंकड़ों के बारे में आपको बता रहे हैं, असल में इससे ज्यादा पैसे आप टैक्स के रूप में देते हैं।

अब बात करते हैं की आखिर निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में पेट्रोल और डीजल से होनी वाली कमाई के लिए क्या आंकड़े दिए हैं। सबसे पहले बात करते हैं आज की तो आज सरकार को पेट्रोल से 33 रूपये प्रति लीटर और डीजल से 32 रूपये प्रति लीटर की कमाई हो रही है।

जबकि जनवरी 2020 से लेकर 13 मार्च 2020 तक सरकार को पेट्रोल से 20 रूपये और डीजल से 16 रूपये प्रति लीटर की कमाई हो रही थी, और मार्च से 05 मई 2020 तक सरकार को पेट्रोल से 23 रूपये और डीजल से 19 रूपये प्रति लीटर की कमाई हो रही थी।

अब अगर हम इस कमाई को आज की कमाई से  तुलना करें तो पेट्रोल पर 13 रूपये और डीजल पर 16 रूपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो गयी है।

आम जनता पर पेट्रोल और डीजल की कीमत के क्या असर पड़ रहे हैं

हाल ही में कोविड-19 की वजह से माध्यम वर्गीय परिवार और निम्न वर्गीय परिवार की कमर टूट  चुकी है, ऐसे में पेट्रोल और डीजल की कीमत बढ़ जाने से आज आम आदमी को अपना घर खर्च कण्ट्रोल करने में काफी दिखातों का सामना करना पड़ रहा है।

क्योंकि कोरोना की वजह से बहुत सारे लोगों के रोजगार छीन गए और जिनके पास आज रोजगार है वह अपने पुराने बजट को ही अभी  तक ठीक नहीं कर सकें है। ऐसे में सरकार को इस बात का ध्यान रखना चाहिए और पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी करनी चाहिए।

आज पेट्रोल और डीजल की कीमतें स्थिर क्यों है

सायद आपने भी यह नोटिस किया हो की अभी कुछ समय से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बढ़ोतरी नहीं की जा रही है, जब यह सवाल सरकार से पुछा गया तो कोई जवाब नहीं मिला है, इसका एक कारण जो सामने दिख रहा है वह है चुनाव।

हाल ही 4 राज्यों में चुनाव होने हैं, जिसे ध्यान में रखते हुए अभी सरकार पेट्रोल और डीजल  की कीमतों को नियंत्रित रख रही है, लेकिन चुनाव ख़त्म होने के बाद क्या ?

सारांश

इस खबर से एक बात साफ़ हो गयी है की अभी तक कहा जाता था की पेट्रोल और डीजल की कीमतें प्राइवेट कंपनी तय करती हैं, लेकिन चुनाव आने पर इसका पूरा कण्ट्रोल सरकार के हाथ में चला जाता है। इसके साथ ही आम जनता का ध्यान रखकर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी नहीं की जाती है। क्योंकि अगर आम जनता को ध्यान में रखकर कीमतों को कम या ज्यादा किया जाता तो हम यह नहीं पूछते की पेट्रोल और डीजल की वजह से सरकार की कितनी कमाई होती है।

इन्हें भी जरूर देखें

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here