मेक्सिको में कोरोना वायरस का अजीब मामला सामने आया

0
166

मेक्सिको में कोरोना वायरस: नमस्कार, जैसा की आप सभी जानते ही होंगे की पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस से जूझ रही है, एक तरफ लाखों लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं जिसके लिए  सरकार और डॉक्टर दोनों ने बहुत सारी एडविसरी जारी की है। जिससे इस वायरस से बचा जा सकें लेकिन मेक्सिकों में आये इस नए मामले ने डॉकटर को भी परेशानी में डाल दिया है।

मेक्सिको में कोरोना वायरस

मेक्सिको में कोरोना वायरस

दरअसल मेक्सिको में कोरोना वायरस का एक अजीब मामला सामना आया है, जिसमें जून 17, 2020 को एक महिला ने तीन बच्चों को जन्म दिया और वह तीनों बच्चे कोरोना पॉजिटिव हैं, जबकि माँ और पिता दोनों को ही कोरोना नहीं है।

अब समस्या यह है की आखिर इन नवजात बच्चों को कोरोना कैसे हुआ है, डॉक्टर्स इस बात से काफी परेशान है और अभी इस बात की जांच की जा रही है कि अगर माँ और पिता को कोरोना नहीं है तो आखिर बच्चों को कोरोना कैसे हुआ

मेक्सिको में कोरोना वायरस का पूरा मामला क्या है

वास्तव में मेक्सिको में कोरोना वायरस का एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जिसमें ट्रिप्लेट्स अर्थात एक साथ पैदा हुए तीन बच्चों में कोरोना वायरस के लक्षण पाए गए थे, जब इनकी जांच की गयी  तो रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इस मामले से डॉक्टर हैरानी में है की इन बच्चों के माता-पिता को कोरोना वायरस नहीं है।

अब स्वास्थ अधिकारी इस बात को समझने की कोशिश कर रहे  हैं की आखिर किस वजह से इन बच्चों में कोरोना वायरस फैला है। क्योंकि अभी तक की जानकारी के अनुसार कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में फैलता है, लेकिन यहाँ मामला कुछ और है।

मेक्सिको में कोरोना वायरस मामले में डॉक्टर की राय

स्वास्थ अधिकारीयों का कहना है कि इससे पहले तक ना तो कभी ऐसा कोई मामला सामने आया था और ना ही किसी ने ऐसे किसी मामले के बारे में सुना था। यह कैसे संभव है की अगर माता-पिता को कोरोना वायरस नहीं है, ना ही बच्चे किसी के संपर्क में आये हैं तो आखिर कैसे वह कोरोना पॉजिटिव हो गए।

बता  दे कि इन ट्रिप्लेट में एक लड़की और दो लड़के हैं, जिनके पैदा होने के चार घण्टे बाद  सान लुइस पोटोसी में इनका कोरोना टेस्ट करवाया गया था, जहाँ इनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है।

इसके साथ ही स्वास्थ्य  अधिकारीयों ने कहा कि शुरू में उन्हें लगा की हो सकता है बच्चों की माँ कोरोना वायरस की एसिम्पटोमेटिक मरीज हो और उनसे ये वायरस बच्चों में फ़ैल गया है। जिसके बाद माता-पिता का टेस्ट करवाया गया लेकिन दोनों की रिपोर्ट निगेटिव आयी है।

जिसके बाद स्वास्थ सचिव मोनिका रंगेल ने एक कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है कि- इस पूरे मामले में हमने विशेषज्ञों से जांच करने का आग्रह किया है।

जन्म के वक़्त बच्चे कैसे थे

इन बच्चों की देखभाल करने वाले डॉक्टर ने बताया, 17, जून को पैदा हुए तीनों बच्चो में से दो पूरी तरह से स्वस्थ थे और इनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं थे, जबकि तीसरे बच्चे को निमोनिया  की शिकायत थी लेकिन अब वह ठीक है।

मेक्सिको में कोरोना वायरस मामले का सारांश

जहाँ पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस से परेशान हैं लाखों  लोगों की जान इस वायरस की से जा चुकी है। अभी तक विशेषज्ञों के अनुसार सोशल डिस्टेंसिंग ही एक मात्र उपाय है जिससे इस वायरस से बचा जा सकता है। लेकिन मेक्सिको की इस घटना ने सभी को चिंता में डाल दिया है। क्योंकि इस घटना की वजह से कई संभावनाएं सामने आ गयी हैं-

जैसे: क्या हवा से भी कोरोना वायरस अब फ़ैल सकता है, क्या बिना किसी के संपर्क में आये हुए भी कोरोना वायरस फ़ैल सकता है। इस प्रकार के कुछ डराने वाले  प्रश्न अब सामने आने लगे हैं।

जब तक इस पूरे मामले की जांच नहीं हो जाती  और इन तीनों बच्चो को कोरोना कैसे हुआ के बारे में पता नहीं चल जाता तब तक यह सवाल ऐसे ही बने रहेंगे।

इस पूरे मामले पर हमारी नजर है, इस खबर से जुडी अन्य जानकारी को पढ़ने के लिए हमारे साथ जुड़े रहें नमस्कार।

इन्हें भी जरुर देखें