CBSC Board की 10वीं और12वीं की होने वाली परीक्षा रद्द

0
243

CBSC Board: नमस्कार, जैसा की हम सभी जानते हैं की CBSC बोर्ड की 10वीं और 12वीं कक्षाओं की परीक्षा अभी भी बाकी है, जिसके लिए यह अनुमान लगाया जा रहा था कि 1 से 15 जुलाई तक यह परीक्षाएँ करायी जाएंगी, लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला देते हुए इन परीक्षाओं को रद्द कर दिया है।

CBSC Board

CBSC Board की 10वीं और12वीं की परीक्षा रद्द

हम सभी अभी तक यह मान कर चल रहे थे कि CBSE Board की 10वीं और 12वीं कक्षाओं की बची हुई परीक्षाएँ 1 से 15 जुलाई के बीच हो सकती है। लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट ने इस बारे में फैसला सुनाते हुए कहा कि अब यह परीक्षाएँ रद्द कर देनी चाहिए।

बता दें की CBSC बोर्ड की 10 और 12 क्लास के बचे हुए एग्जाम को कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है, जिसके सन्दर्भ में दिल्ली, महाराष्ट्र और ओडिशा ने परीक्षा कराने में असमर्थता  जताने का हलफनामा दिया है।

जिस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा की 10वीं और 12वीं की 1 से 15 जुलाई को होने वाली परीक्षाओं को रद्द कर दिया जाए।

CBSC Board की 10वीं और12वीं की परीक्षा क्यों शुरू हुआ केस

बता दें की कोरोना महामारी की वजह से जब देश में लॉकडाउन किया गया था तब तक UP Board की सभी परीक्षाएं पूर्ण हो चुकी थी लेकिन CBSC बोर्ड के 10वीं और 12वीं कक्षाओं की परीक्षाएँ बची हुई थी। जिसे अभी तक पूरा नहीं कराया जा सका था। इसी बात पर कुछ अभिभावकों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी थी, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, कि वह 25 जून दोपहर 2 बजे तक अपना अंतिम फैसला (निर्णय) दे दिया जाएगा।

CBSC Board की परीक्षा रद्द होने से क्या असर होंगे

इस साल CBSC की बची हुई परीक्षा के लिए देश भर से 31 लाख से अधिक छात्रों को शामिल होना था, लेकिन अब इन परीक्षाओं को कैंसिल कर दिया गया है, जिसका असर सभी केंद्रीय विश्वविद्यालय की प्रवेश प्रक्रिया के साथ-साथ जेईई मेन और नीट 2020 सहित कई अन्य राष्ट्रिय प्रवेश परीक्षा पर पड़ेगा।

हालांकि छात्रों को परेशान होने की जरुरत नहीं है, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के अनुसार परीक्षार्थियों को उनके प्रैक्टिकल एग्जाम के आधार पर नंबर दे दिए जाए।

CBSC Board की परीक्षाओं को रद्द करने के कारण

दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच मनीष सिसोदिया ने मानव संसाधन विकास मंत्री को पात्र लिखा था, जिसमें CBSC Board की परीक्षाओं को रद्द  करने की मांग की थी। पत्र में सिसोदिया ने लिखा था कि-

“दिल्ली में छात्रों के स्कूल आधारित पिछले आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर ग्रेड दिया जा सकता है” उन्होंने यह भी कहा था कि हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि दिल्ली में 242 कन्टेनमेंट जोन हैं, वहीँ दिल्ली में हर रोज कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोत्तरी देखी जा रही है।

जिससे अगर यह परीक्षा कराई जाती है तो परीक्षार्थी या उसके परिवार का कोई सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है जो उस छात्र को परीक्षा छोड़नी पड़ेगी। जिससे परीक्षा को पूर्ण कराना असंभव प्रतीत होता है।

बता दें कि दिल्ली में लगातार कोरोना के नए केस सामने आ रहे हैं, या ऐसा कहें की दिल्ली में लगातार कोरोना के केस बढ़ते जा रहे हैं। हाल ही यह अनुमान लगाया गया है कि 31 जुलाई तक करीब 5.30 लाख मामले होने की सम्भावना है।

CBSC Board की परीक्षाओं को रद्द होने का सारांश

सीधे शब्दों में कहें तो सुप्रीम कोर्ट ने अब यह साफ़ कर दिया है की CBSC Board की जितनी भी परीक्षाएं अभी बाकी थी उन्हें कोरोना वायरस की वजह से रद्द कर दिया जाए और छात्रों के पिछले अंकों के आधार पर उन्हें ग्रेड दे दिया जाए।

इन्हें भी जरुर देखें