बैंगलुरु हिंसा में अब उपद्रियों से होगी नुकसान की भरपाई

0
34

बैंगलुरु हिंसा: नमस्कार आपने अभी तक यह तो सुन ही लिया होगा की बैंगलुरु में एक फेसबुक पोस्ट की वजह से उपद्रियों ने हाहाकार मचा रखा है और अब प्रशासन ने इन उपद्रियों पर कार्यवाही करने का निश्चय किया  है और इन्होने जितना नुकसान अभी तक किया है इसकी भरपाई कराने की कवायद तेज कर दी गयी है।

बैंगलुरु हिंसा

बैंगलुरु हिंसा

मामला: कांग्रेस विधायक श्रीनिवास के भतीजे ने सोशल मिडिया पार एक भड़काऊ पोस्ट किया था, जिसके बाद से यह बवाल मचा है। असल में कहा जा रहा है की श्रीनिवास के भतीजे ने अपने फेसबुक अकाउंट पर ‘पैगम्बर मुहम्मद’ के बारे में एक भड़काऊ पोस्ट किया है। जिससे लोग भड़क उठे और इस तरह का उपद्रव किया गया है।

इस उपद्रव में अभी तक 60 पुलिसकर्मियों के घायल होने की पुष्टि की गयी है, बता दें की यह उपद्रवकारी किसी की बात सुनने को तैयार नहीं है, और मंगलवार रात से इन्होने उपद्रव मचा रखा है आलम यह है की यह उपद्रि ना सिर्फ संपत्ति को नुकसान  पंहुचा रहे हैं बल्कि पुलिसकर्मियों पर भी हमला कर रहे हैं, जिसकी वजह से 60 पुलिसकर्मियों के घायल होने की ख़बरें आ रही हैं।

क्या है पूरा मामला

कांग्रेस विधायक श्रीनिवास के भतीजे ने अपने फेसबुक अकाउंट पर पैगम्बर मुहम्मद के बारे में एक भड़काऊ पोस्ट किया था जिसके बाद कर्नाटक के बेंगलुरु में जीडे हल्ली इलाके में मंगलवार को करीब रात के 9.30 बजे उपद्रवियों ने कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति के घर को निशाना बनाया, इस दौरान वह विधायक के घर का एक हिस्सा आग के हवाले कर दिया गया।

बता दें की इस पूरे घटनाक्रम में सैकड़ों की संख्या में लोगों के जरिये विधायक के घर को निशाना बनाने के बाद पुलिस स्टेशन पर हमला किया है। वहीँ हिंसा के दौरान कई वाहनों को आग के हवाले भी कर दिया गया है। इस हमले में एडिशनल पुलिस कमिशनर समेत 60 पुलिसकर्मियों को चोटें आई हैं।

बैंगलुरु हिंसा में किस प्रकार होगी कार्यवाही

सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में इस प्रकार के उपद्रव वा सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचने के सन्दर्भ में सभी राज्यों को निर्देश दिया था की हिंसा से जहाँ सार्वजानिक क्षति हो वहां उन्ही व्यक्तियों से नुकसान की भरपाई कराई जाए। अब कर्नाटक के गृहमंत्री बसवराज बोम्मई का कहना है कि हम उन व्यक्तियों की पहचान कर रहे हैं और नुकसान का आकलन कर रहे हैं।

इसके बाद जो लोग इस पूरे उपद्रव में शामिल हैं उनसे इस नुकसान की भरपाई कराई  जाएगी, बता दें इस हिंसा में कई बसें और कार जला दी गयी हैं। जिसके लिए अब राज्यसरकार उपद्रियों की पहचान करने में जुटी हैं। उपद्रियों की पहचान करने के लिए CCTV फुटेज, कैमरा रिकॉर्डिंग और आस-पास के लोगों द्वारा बनायीं गयी वीडियो का इस्तिमाल किया जाएगा।

क्या बैंगलुरु हिंसा उपद्रव की पहले से तैयारी की गयी थी

इस बात पर अगर हम उपद्रव में इस्तिमाल हुई चीजों को आधार समझें तो इस उपद्रव में पेट्रोल बम का इस्तिमाल किया गया है, जिससे आग लगायी जा सके तो इस आधार पर यह कहना बिलकुल गलत नहीं होगा और साथ ही बहुत ही कम समय में इतने लोग सड़कों पर कैसे इकठ्ठा हो गए।

क्या इस प्रकार से उपद्रव करना सही है

आरोप है की पैगम्बर मुहम्मद के बारे में आपत्ति जनक पोस्ट फेसबुक पर किया था, तो क्या इसका विरोध करना उचित नहीं है, क्या सोशल मीडिया पर ही इसका जवाब नहीं दिया जा सकता था, क्या कार्यवाही की मांग नहीं की जा सकती थी, क्या लोगों को भड़काना सही है, कब तक कुछ लोग ऐसी आपत्ति जनक पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर करते रहेंगे, कब तक बेक़सूर लोग इस प्रकार के दंगों की चपेट में आते रहेंगे, कब तक।

इन्हें भी जरूर देखें